Friday, 1 November 2013

यादें

एक  अरसे  बाद
धूप  खिली  थी
चेहरे  पर !
धुधली  यादें  थी
अब  तक
पहरे पर !

1 comment: