Saturday, 2 November 2013

इक ख्वाब

  एक  दिन
  सुबह हो 

  और वो चाय लिये
  सिरहाने आ जाये !

  एक दिन
  छत पर पड़ोस कि
  वो सांवली   सी  लड़की 

  बिना बात  के  मुस्का  जाये !

  एक दिन
  पड़ोस कि  ऑंटी
  उस लड़की  से
  हमारी बहुत  सी  तारीफ कर जाये !

  एक दिन
  वो कॉलेज  में
  हमसे हाई  हेलो  कर  जाये !

  एक दिन
  वो हमें  देख  के
  थोडा सा  शर्र्मा  जाये !

  एक दिन
  वो अकेली  हो
  छाता एक  हो ,और  झम्  झम्  बारिश  हो जाये !

  एक वो  दिन
  भी आ  जाये
  जब वो  बिना  बात के  लड़  जाये !

  एक दिन
  दूर जाने  कि  बात कहने  पर
  वो होंठो  पर धीरे  से  हाथ  धर  जाये !

  एक दिन  वो
  ख्वाबो में  आये
  आँखे खुले
  तो ये  सब  सच  हो  जाये !

No comments:

Post a Comment